Home स्वास्थ / सौंदर्य स्वास्थ्य कर्मियों को कुशल बनाने की पहल

स्वास्थ्य कर्मियों को कुशल बनाने की पहल

2 second read
0
1
13

हेल्थकेयर सेक्टर स्किल काउंसिल द्वारा आयोजित ट्रेनिंग ऑफ ट्रेनर्स प्रोग्राम का आयोजन।

नई दिल्ली : एचएसएससी ने हाल ही में भारत में अपने ट्रेनिंग ऑफ ट्रेनर्स (टीओटी) कार्यक्रमों को सफलतापूर्वक आयोजित किया। प्रशिक्षण कार्यक्रम केरल, चेन्नई, उत्तर प्रदेश, नई दिल्ली और बिहार सहित देश भर के विभिन्न स्थानों में भी आयोजित किया गया था। देश भर में 10 दिनों के इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में 226 से अधिक प्रशिक्षकों ने भाग लिया। यह प्रशिक्षण जनरल ड्यूटी असिस्टेंट, मेडिकल रिकॉर्ड्स और हेल्थ इंफार्मेशन टेक्नीशियन, इमरजेंसी मेडिकल टेक्नीशियन – बेसिक, होम हेल्थ एड, फार्मेसी असिस्टेंट, मेडिकल लेबोरेटरी टेक्नीशियन, फ्लेबॉटमी टेक्नीशियन, ब्लड बैंक टेक्नीशियन, ऑपरेटिंग थियेटर टेक्नीशियन, विजन टेक्नीशियन, रिफ्रैक्शनिस्ट, रेडियोलॉजी टेक्नीशियन, एक्स-रे टेक्नीशियन और डायलिसिस टेक्नीशियन सहित कार्य से संबंधित कई भूमिकाओं के लिए आयोजित किया गया था।

टीओटी लखनऊ, उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री आरोग्य मित्र (पीएमएएम) के लिए प्रशिक्षकों को प्रशिक्षित करने के लिए एनएचए (राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण) के सहयोग से भी आयोजित किया गया था। पीएमएएम के लिए प्रमाणित प्रशिक्षक देश में प्रधानमंत्री आरोग्य मित्र (पीएमएएम) के लिए प्रशिक्षण आयोजित करेंगे जिससे देश में प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (पीएम-जेएवाई) के कार्यान्वयन को बढ़ावा मिलेगा।

एचएसएससी कीे अध्यक्षा डॉ.शबनम सिंह ने कहा कि, ‘‘दुनिया भर में और भारत में स्वास्थ्य सुविधाओं में सुधार किया जा रहा है। हमें अभी भी सभी के लिए एक पर्याप्त स्वास्थ्य प्रणाली स्थापित करने के लिए लंबा रास्ता तय करना है। अच्छी तरह से प्रशिक्षित हेल्थकेयर प्रोफेशनलों की मांग में तेजी से वृद्धि हो रही है, जिसके कारण प्रशिक्षकों का क्षमता निर्माण एक उभरती हुई चुनौती है और इसलिए योग्य और प्रमाणित प्रशिक्षक की महत्वपूर्ण और मौलिक भूमिका को पहचानना महत्वपूर्ण है। ऐसे प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रशिक्षकों के प्रशिक्षण कौशल को बढ़ाकर प्रशिक्षकों के प्रशिक्षण और विकास की आवश्यकता को पूरा करते हैं।’’

प्रशिक्षण सत्र के दौरान, सभी योग्य उम्मीदवारों ने उन्नत प्रशिक्षण कौशल हासिल किया और उन्हें उद्योग के विशेषज्ञों और अत्यधिक योग्य प्रोफेशनलों के साथ जुड़ने का अवसर भी दिया गया। सभी उम्मीदवारों को प्रशिक्षण के दौरान बारीकी से देखा गया और उन्हें सुधार के क्षेत्र में जानकारी प्रदान की गई। प्रशिक्षण सत्र के सफल समापन पर उम्मीदवारों को एचएसएससी और एनएसडीसी द्वारा एक प्रमाण पत्र प्रदान किया गया, जिससे वे छात्रों को प्रशिक्षण प्रदान करने में सक्षम हो गए।

प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्देश्य शिक्षण सत्रों को सुविधाजनक बनाने और मूल्यांकन के माध्यम से अपने अभ्यास में सुधार करने के लिए स्वयं-प्रशिक्षण, सुविधा और शिक्षण के तौर-तरीकों को विकसित करना और बढ़ाना है। एचएसएससी ने इस वर्ष पूरे भारत में 40 से अधिक ऐसे प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किए हैं। पूरे भारत में 1500 से अधिक उम्मीदवारों का मूल्यांकन किया गया है और प्रशिक्षक के रूप में प्रमाणित किया गया है।

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In स्वास्थ / सौंदर्य

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘गाना म्युजिक ऐप’ बना 100 मिलियन यूजर्स द्वारा प्रयोग किया जाने वाला पहला पसंदीदा ऐप

नई दिल्ली : भारत में सबसे बड़ा म्युज़िक स्ट्रीमिंग ऐप गाना, मार्च 2019 में मासिक 10 करोड़ एक्…