Home खबरें राजनीति चुनावों के महाकुंभ में आईटी और डेटा पेशेवरों की जमकर कमाई

चुनावों के महाकुंभ में आईटी और डेटा पेशेवरों की जमकर कमाई

2 second read
0
1
9

आईटी और डेटा पेशेवरों की चुनावी माहौल में जमकर कमाई हो रही है।

नई दिल्ली : लोकसभा चुनावों के इस महाकुंभ में आईटी और डेटा पेशेवरों की बन आई है। सियासी दल अपनों की ताकत जानने और विरोधियों की कमजारे कड़ी पकड़ने के लिए बड़ी संख्या में इन पेशेवरों की सेवाएं ले रहे हैं। इन्हें 10 हजारे रुपए से लेकर तीन लाख रुपए तक दिए जा रहे हैं। विशेषज्ञों की मानें तो वर्तमान लोकसथा चुनाव में 10 से 12 लाख पेशेवरों की जरूरत है। बता दें कि रैली प्रबंधन, डाटा विश्लेषण, सोशल मीडिया प्रबंधन, जनसंपर्क, ग्राफिक डिजाइनिंग और खासतौर पर राजनीतिक दलों और बड़े नेताओं के लिए खास रणनीति बनाने के लिए पेशेवरों की सेवाएं ली जा रही हैं।  राजनीतिक दल भारतीय प्रबंधन संस्थान (आईआईएम) जैसे बड़े संस्थानों से भी टैलेंट रखने में कंजूसी नहीं बरत रहे हैं। अनुमान के मुताबिक अब तक राजनीतिक दल देश भर में 5 लाख से ज्यादा की भर्ती कर चुके हैं। जैसे जैसे चुनाव नजदीक आएंगें भर्तिया बढेंगी?

अनुभव और नई सोच को मिल रहे हैं मौके : पार्टियां इंटर्न के तौर पर काॅलेज और विश्वविद्यालय से जुड़े छात्रों को मौके दे रही हैं। साथ ही अलग-अलग जगहों पर काम कर रहे पेशेवरों को भी बुलाया जा रहा है।

श्रमिकों की भी ज्यादा मांग : रैलियों में टैंट लगाने और भीड़ का प्रबंधन और उसकी व्यवस्था देखने के लिए भी खासी तादाद में लोगों को रोजना आधार पर भर्ती किया जा रहा है। इसके लिए अलग-अलग स्तर पर 5 हजार रुपए से लेकर 80 हजार रुपए तक दिए जा रहे हैं।

ड्राइवरों की बल्ले-बल्ले : चुनावी माहौल में हर नेता को समिति समय में पूरे संसदीय क्षेत्र का दौरा करना है। वहीं, बड़े नेताओं को देशभर में घूम-घूमकर पार्टी की योजनाओं से लोगों को लुभाना है। ऐसे में सबसे ज्यादा नौकरियों के मौके ड्राइवरों और लाॅजिस्टक मैनेजर जैसी जगहों पर लगातर बढ़ रहे हैं। कोई भी नेता लोकतंत्र के इस महापर्व में जरा भी रिस्क नहीं लेना चाहता है। हर नेता बाकायदा पेशेवर लोगों को नौकरी देकर उनकी एक टीम बनाकर ये सुनिश्चित कर रहा है कि उसकी बात सभी तक पहुंचे और चुनाव में जीत उन्हें ही मिले।

सोशल मीडिया : पार्टियां फेसबुक व ट्विटर के प्रबंधन के लिए 15 से 50 हजार तनख्वाह दे रही हैं। डेटा एनलिटिक्स और राजनीतिक दलों के लिए रणनीति बनाने का अनुभव होने पर तीन लाख रुपए की भी पेशकश दी जा रही है।

किस काम के लिए कितनी कमाई

  • ग्राफिक डिजाइनिंग के लिए 10 से 30 हजार रुपए।
  • प्रेस रिलीज तैयार करने के लिए 30 से 80 हजार।
  • इवेंट मैनेजमेंट के लिए 30 हजार से 1 लाख रुपए।
Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In राजनीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

अमेज़ॅन प्राइम वीडियो ने आगामी अमेज़ॅन ओरिजिनल “माइंड द मल्होत्रास“ का पहला लुक किया रिलीज

नेशनल : अमेज़न प्राइम वीडियो ने ऐपलॉज एंटरटेनमेंट के साथ अपनी आगामी अमेजन ओरिजिनल सीरीज़ “मा…