Home खबरें दिव्यांगों को वोट देने के लिए उठानी पड़ी परेशानियां, चुनाव अधिकारियों ने नहीं किया कोई सहयोग

दिव्यांगों को वोट देने के लिए उठानी पड़ी परेशानियां, चुनाव अधिकारियों ने नहीं किया कोई सहयोग

9 second read
0
2
23
  • सुवर्णा राज
  • International Para Athlete on Wheelchair
    Social Worker (MSW, M.Com, B.Ed)

आज 12 मई को मैंने बाबरपुर स्थित मतदान केंद्र पर मताधिकार का उपयोग किया, साथ ही मेरे कुछ विकलांग साथियों ने भी अलग अलग जगहों पर मतदान किया। जैसा कि ज्ञात है इस बार इलेक्शन कमीशन ऑफ इंडिया ने विकलांग जनों के लिए बहुत सी सुविधाएं देने का दावा किया है जिसके लिए बहुत बड़ा बजट भी खर्च किया है, साथ ही एक PWD ऐप्प भी उपलब्ध कराई है जिसके द्वारा विकलांग अपनी जरूरत वहां बता सकते हैं, जैसे मतदान करने जाने के लिए गाड़ी बुक कराने, व्हीलचेयर बुक कराने एवं वोटर कार्ड में कोई बदलाव करने के लिए, आदि ।

राज्य चुनाव अधिकारी इस संदर्भ में अभी तक हुए मतदान में पूर्णतः सफल नहीं हुए हैं। वैसे ही आज दिल्ली चुनाव अधिकारी भी असफल ही रहे। मेरा मतदान केंद्र एक सरकारी स्कूल में है जहां में 10 वर्षों से मतदान कर रही हूँ, वहाँ रेम्प पहले से ही बना हुआ है। पार्किंग की परेशानी हुई और भी कई कमियां थी। परंतु प्राइवेट स्कूलों में बहुत बुरा हाल देखने को मिला। कला निकेतन पब्लिक स्कूल जो हरदेव पूरी में है, वहां नीचे की ओर 5-6 सीढियां थी, एक विकलांग व्यक्ति का अंदर जाना मुश्किल था। दीप पब्लिक स्कूल, अशोक नगर में प्रवेश द्वार पर रेम्प खतरनाक तरीके का बना हुआ है जहां कुछ भी हो सकता है। वहीं छतरपुर पोलिंग बूथ 56 में विकलांग जनों को परेशानी हुई। हरियाणा में भी बहुत जगह परेशानी का सामना करना पड़ा, जहां एक विकलांग जन को 4 लोगों द्वारा उठा कर बूथ में ले जाना पड़ा ।

इसलिए आप सभी से मेरा अनुरोध है कि दिल्ली चुनाव अधिकारी से सवाल किया जाए कि वो विकलांग जनों को सुगम सुविधाएं प्रदान क्यों नहीं कर सकें? ये बात देश की जनता, राजनतिक पार्टियों एवं राजनेताओं तक पहुचानें की भी कृपा करें। क्योंकि हम भी इस देश के नागरिक हैं हमारा भी देश की उन्निति में सहभागी हैं, हम भी देश के लिए पदक जीतते हैं।  आखिरी में कहना चाहती हूँ कि हम विकलांग जनों को समाज में पूर्ण भागेदारी तब तक नहीं मिल सकती जब तक राजनीति (पंचायत से संसद तक) में विकलांग जनों को आरक्षण नहीं मिलता।

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

देश और इसके नागरिकों के लिए बेहतर स्वास्थ्य के लिए होगा एक खाका तैयार

भारत तभी आर्थिक शक्ति बन सकता है, जब उसके नागरिक स्वस्थ होंगें। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री …