Home खबरें आईटीएल और यनमार ने भारत में फार्म मैकेनाइज़ेशन में बदलाव लाने के लिए मिलाया हाथ

आईटीएल और यनमार ने भारत में फार्म मैकेनाइज़ेशन में बदलाव लाने के लिए मिलाया हाथ

5 second read
0
1
17
  • प्रीमियम सोलिस यनमार टै्रक्टर अब भारत की नई पीढ़ी के किसानों के लिए उपलब्ध होंगे।
  • इस साझेदारी के तहत अगले पांच सालों में 50,000 टै्रक्टर्स की बिक्री और दो सालों में 400 डीलरशिप्स तक विस्तार का लक्ष्य तय किया गया। 

नई दिल्ली : आईटीएल  (इंटरनेशनल टै्रक्टर्स लिमिटेड) ने जापान की यनमार एग्रीबिज़नेस कंपनी लिमिटेड के सहयोग से अपने बहु-प्रतीक्षित सोलिस टै्रक्टर रेंज को लॉन्च किया। यनमार की अत्याधुनिक तकनीकों एवं हाई-टेक फीचर्स से युक्त ये टै्रक्टर भारत की मिट्टी और ज़मीनी संरचना के अनुकूल हैं। इससे पहले पंजाब के होशियारपुर में सिर्फ निर्यात के लिए सोलिस टै्रक्टर बनाए जाते थे, जिसके चलते आईटीएल भारत में टै्रक्टर्स का अग्रणी निर्यातक बन चुका है। विदेशी बाज़ारों में ज़बरदस्त सफलता हासिल करने के बाद आईटीएल अब भारत में सोलिस का लॉन्च कर रहा है-जो दुनिया का सबसे बड़ा टै्रक्टर बाज़ार है, इसके बाद यनमार का वायएम 3 टै्रक्टर आता है।

डॉ दीपक मित्तल, मैनेजिंग डायरेक्टर-आईटीएल ने लॉन्च के अवसर पर कहा, ‘‘सोलिस का लॉन्च भारत में फार्म मैकेनाइज़ेशन के तरीके को पूरी तरह से बदल देगा। आईटीएल ने 2011 में अपने पहले टै्रक्टर सोलिस को युरोप में निर्यात करना शुरू किया। उसक बाद से सोलिस ने तेज़ी से वृद्धि की है और आठ सालों के अंदर दुनिया के 120 देशों में अपनी सशक्त मौजूदगी बना चुका है, जहां इसके 100,000 से अधिक संतुष्ट उपभोक्ता हैं। सोलिस अब युरोप में टै्रक्टर्स के पांच शीर्ष ब्राण्ड्स में से एक है। भारत में इस लॉन्च के साथ हमने 5 सालों के अंदर 50,000 सोलिस एवं यनमार टै्रक्टर्स बेचने तथा 2 सालों में 400 डीलरशिप्स तक विस्तार करने का लक्ष्य तय किया है। सोलिस टै्रक्टर कई अत्याधुनिक तकनीकों और फीचर्स के साथ आते हैं, जो ‘‘भारत में निर्मित’ फॉर्म टेक्नोलॉजी की गुणवत्ता में क्रान्तिकारी बदलाव लाएंगे।’’

हम अपने किसानों की दो मुख्य समस्याओं जैसे, जल की कमी एवं अधिक उत्पादकता की आवश्यकता- को हल करने के लिए अनुप्रयोग आधारित समाधानों के बाज़ार पर प्रभुत्व स्थापित करना चाहते हैं। उदाहरण के लिए जब पुडलिंग अनुप्रयोगों के लिए रोटावेटर से युक्त अनुकूल वज़न वाले 4 डब्ल्यूडी टै्रक्टर का इस्तेमाल किया जाता है, इसके लिए किसान को फुल केज व्हील्स वाले टै्रक्टर की तुलना में 50 फीसदी कम पानी की ज़रूरत होती है। इसी तरह 4डब्ल्यूडी टेक्नोलॉजी एवं एक्सप्रेस ट्रांसमिशन स्पीड से युक्त हमारे टै्रक्टर किसानों की उत्पादकता बढ़ाने में मदद करते हैं।’’

श्री कैन ओकुयामा, डायरेक्टर, यनमार होल्डिंग्स कंपनी लिमिटेड ने कहा, ‘‘जापान और दक्षिण पूर्वी एशिया में यनमार की सशक्त मौजूदगी तथा विदेशी बाज़ारों में आईटीएल सोलिस के ब्राण्ड नेतृत्व को देखते हुए हमें विश्वास है कि यनमार और आईटीएल के बीच यह साझेदारी भारतीय बाज़ार में दोनों कंपनियों को एक नई उंचाई तक ले जाएगी। हमारा मानना है कि सोलिस भारत में भी अपने विदेशी सफलता को दोहराएगा, क्योंकि यह भारतीय किसानों की नई पीढ़ी के लिए बेहतरीन उत्पाद है। हमारे वायएम3 टै्रक्टर यनमार की अत्याधुनिक स्मार्ट असिस्ट रिमोट टेक्नोलॉजी से युक्त हैं, जो 21वीं सदी के लिए कृषि को अनुकूल बनाकर उच्च दक्षता का अनुभव प्रदान करेंगे।’’

आईटीएल भारत के बाहर 20-110 एचपी टै्रक्टर्स की सबसे बड़ी रेंज प्रस्तुत करता है। आईटीएल और यनमार के विदेशी असेम्बली प्लांट ब्राज़ील, तुर्की, अल्ज़ीरिया और यूएसए में हैं-सोलिस ने कई क्षेत्रों में बाज़ार में अपने आप को अग्रणी स्थिति पर स्थापित कर लिया है। इसके अलावा आईटीएल की इन-हाउन मैनुफैक्चरिंग क्षमता इसे ‘मेक इन इण्डिया’ के लिए अनुकूल बनाते हैं, क्योंकि इसके इंजिन और ट्रांसमिशन का निर्माण देश में ही किया जाता है।

आगामी सोलिस एवं यनमार सीरीज़ पावरफुल और अत्याधुनिक फीचर्स से युक्त है जो इसे मजबूती, टिकाऊपन, पावर और शानदार परफोर्मेन्स देते हैं तथा इसे सभी भावी कृषि एवं वाणिज्यिक अनुप्रयोगों के लिए टै्रक्टर्स की अद्वितीय रेंज बनाते हैं। ये टै्रक्टर किसानों को उनके पैसे का पूरा मूल्य प्रदान करते हैं, जिसके वे हकदार हैं। यह रेंज अपने बेहतरीन फीचर्स के साथ हर प्रकार की मिट्टी पर शानदार परफोर्मेन्स देती है ताकि किसान की अधिकतम बचत हो सके।

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

देश और इसके नागरिकों के लिए बेहतर स्वास्थ्य के लिए होगा एक खाका तैयार

भारत तभी आर्थिक शक्ति बन सकता है, जब उसके नागरिक स्वस्थ होंगें। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री …