Home दिल्ली ख़ास कला/साहित्य / संस्कृति इंडिया गेट से रवाना हुई सबसे प्रतिष्ठित 21 गन सैल्यूट इंटर नेशनल विंटेज कार रैली

इंडिया गेट से रवाना हुई सबसे प्रतिष्ठित 21 गन सैल्यूट इंटर नेशनल विंटेज कार रैली

4 second read
0
1
70

नई दिल्ली : दो साल के लंबे इंतजार के बाद दिल्ली में एक बार फिर से जबदस्त धूमधाम और जोश भरे माहौल में, 21 गन सैल्यूट इंटरनेशनल विंटेज कार रैली और कॉनकाॅर्स डी’एलीगेंस 2020 के 9वें एडीशन को श्री केटीएस तुलसी, प्रेसिडेंट, एचएमसीआई, श्री मदन मोहन, चेयरमैन एवं ट्रस्टी, 21 गन सेल्यूट हेरिटेज एंड कल्चरल ट्रस्ट ने इंडिया गेट, नई दिल्ली से हरी झंडी दिखा कर रवाना किया। इस मौके पर अन्य सम्मानित राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय गणमान्य हस्तियां भी उपस्थित थीं।

पुरानी कारों के शौकीन लोगों की उम्मीदों, खुशियों को बढ़ाते हुए और वादा निभाते हुए श्री मदन मोहन ने इस आयोजन को एक शानदार अनुभव में बदल दिया। आयोजन के पहले दिन इंडिया गेट पर भारत और दुनिया भर से सैकड़ों विंटेज कारों की एक झलक पाने के लिए दर्शकों की एक बड़ी भीड़ उमड़ी हुई थी और जब इन कारों ने लुटियंस दिल्ली की ऐतिहासिक सड़कों पर परेड की तो देखने वालों की नजर इन पर ही जीम रह गईं।

150 भव्य विंटेज कारें और 35 विंटेज बाइक्स, इंडिया गेट से शुरू होकर, कार रैली ने अपने तय रूट पर आगे बढ़ते हुए इनर सर्कल रोड के बाद रैली राज पथ से आगे बढ़ी और मदर टेरेसा क्रीसेंट रोड के बाद बाबा खड़क सिंह मार्ग पर चलती रही, फिर सरदार पटेल मार्ग, धौला कुआं फ्लाई ओवर, वहां से रैली एनएच 8 पर आगे बढ़ी और उसके बाद एयरपोर्ट फ्लाई ओवर, महिपालपुर फ्लाई ओवर, राजोकारी फ्लाई ओवर, शंकर चैक फ्लाई ओवर से होती हुई और आगे हीरो होंडा चैक फ्लाई ओवर पर चली गई। उसके बाद ये कार रैली सीधे टोल प्लाजा की तरफ बढ़ती रही और फिर रैली अपने डेस्टिनेशन करमा लेकलैंड्स गोल्फ कोर्स में पहुंची।

भारत सरकार, पर्यटन मंत्रालय के सहयोग से आयोजित, 21 गन सैल्यूट इंटरनेशनल विंटेज कार रैली और कॉन्सर्ट डी’एलीगेंस ने अपनी शुरुआत राजसी इंडिया गेट पर फ्लैगआॅफ परंपरा को पूरा कर रवाना हुई और इस दौरान खूबसूरत माहौल में सभी ने इन खूबसूरत विंटेज कारों को जमकर निहारा। इन कारों को देखने के लिए इंडिया गेट के आसपास मौजूद दर्शकों का उत्साह देखने लायक था। बहादुर शहीदों के बलिदान का सम्मान करती अमर जवान ज्योति के सामने 150$ भव्य विंटेज कारें उपस्थित थीं। उनके साथ दुनिया भर के 34 सम्मानित इंटरनेशनल जज भी मौजूद थे जो कि इन कारों को जज करने के लिए खास तौर पर इस शानदार आयोजन में शामिल हुए।

इंडिया गेट, नई दिल्ली में इस आयोजन में मौजूद श्री केटीएस तुलसी, प्रेसिडेंट, एचएमसीआई ने कहा कि “मुझे कुछ आकर्षक विंटेज कारों का अवलोकन करने का अवसर मिला है। इनको बेहतरीन अंदाज से रिस्टोर्ड और संरक्षित किया गया है। इन कारों को आज भी खूबसूरत बनाए रखने में इन के मालिकों का जुनून और पर्दे के पीछे काम करने वाले लोगों की प्रतिबद्धता का अहम योगदान है, जो कि पुरानी और क्लासिक कारों की विरासत को जीवित रखे हुए है।”

श्री मदन मोहन, चेयरमैन एवं ट्रस्टी, 21 गन सेल्यूट हेरिटेज एंड कल्चरल ट्रस्ट ने इंडिया गेट पर आए मेहमानों और दर्शकों को संबोधित किया और हेरिटेज मोटरिंग और इसके विकास के महत्व और युवा पीढ़ी के विकास को महत्व दिया। उन्होंने उन सभी को भी दिल से धन्यवाद किया, जन्होंने इस प्रयास का समर्थन किया है और इस सपने को साकार करने में प्रमुख तौर पर आधार बने हुए हैं।

इस आयोजन में पूरी दुनिया से आई कई दुर्लभ, खूबसूरत और इससे पहले कभी नहीं देखी गई कारों को डिस्प्ले किया गया, जो कि मोटरिंग मास्टरपीसेज के तौर पर जानी जाती हैं। इन कारों में प्रमुख तौर पर 1938 रोल्स-रॉयस 25ध्30, मासरेटी 3500 जीटी विग्नेल सिडर, 1939 ब्यूक रोडमास्टर कनर्वेटेबल, 1938 लैंसिया एस्टुरा सीरीज 4, 1930 बीएमडब्ल्यू 3ध्15 डीए2 “कैब्रियोलेट”, 1936 रोल्स रॉयस 25ध्30 गुर्ने नटिंग कूपे, 1959 जगुआर एक्सके 150एस, 1936 रोल्स रॉयस 25ध्30, 1951 बेंटले एमके 6 फ्रीस्टोन एंड वेब, 1966 फोर्ड मस्टैंग, 1930 कैडिलैक वी-16 रोडस्टर, और 1959 अल्फा 2000 और कई अन्य शामिल हैं!

कॉनकोर्स ने एक बार फिर भारत के विभिन्न हिस्सों से आई विंटेज कारों को शो फील्ड में स्वागत करने के लिए उत्सुक रहा और इस दौरान जिन कारों को देखा गया, उनमें दरभंगा के महाराजा की 1938 बेंटले एचएच, भोपाल के महाराजा की 1938 बेंटले एचएच, 1966 जगुआर ई-टाइप, 1959 शेवरले इम्पाला, 1946 एमजी टीसी, खिमसार के युवराज धनंजय सिंह की 1936 की मर्सिडीज-बेंज टाइप 290, राजकोट के ठाकोर साहेब मान्धातासिंहजी जडेजा की 1947 पैकर्ड क्लिपर, डूंगरपुर के युवराज श्री हर्षवर्धन सिंह की 1947 पैकर्ड डीलक्स क्लिपर शामिल है। उनके साथ ही कई अन्य आकर्षण जिनमें गौतम हरि सिंघानिया की 1909 रेनाॅ एएक्स, 1903 कैडिलैक मॉडल ए, 1939 रोल्स-रॉयस व्रेथ, 1937 पियर्स-एरो आठ, 1951 जगुआर एक्सके 120 और 1932 एमजी जे2 भी इस आयोजन में दिखीं।

1934 लैगोंडा एम45 रैपिड, 1935 बेंटले बाय एंटेम ड्रोफेड, 1921 फिएट कोरसा, 1923 लैंचेस्टर 40 एचपी टूरर, 1930 स्टुट्ज, सीरीज एम, पेबल बीच कैटेगरी भी काॅनकोर्स शो फील्ड पर खूबसूरत रत्नों की तरह चमक गई।

इस कार्यक्रम का उद्घाटन संस्करण 2011 में आयोजित किया गया था और तब से, इस कार्यक्रम ने भारत को वल्र्ड हेरीटेज मोटिरिंग टूरिज्म मैप पर आगे ले लिया है। इस साल, डिस्प्ले में शामिल प्रत्येक मास्टरपीस दुर्लभ और अद्वितीय दोनों है, और कॉनकॉर में भाग लेने वाली प्रत्येक कार को पहली बार 21 गन सेल्यूट कॉनकॉर्स शो फील्ड पर प्रदर्शित किया जाएगा। आयोजन की कलात्मक गुणवत्ता और प्रामाणिकता रीस्टोर्ड ब्यूटीज को तारीफ बटोरने और लोगों के ध्यान का केन्द्र बनने का मौका देगी। इसके अलावा, दुनिया में समृद्ध आॅटोमोटिव हेरीटेज को प्रदर्शित करते हुए, रैली विशेष जरूरतों वाले बच्चों के लिए धन जुटाने का एक सामाजिक लख्य भी रखती है। दो दिवसीय कार्यक्रम में भारत के गौरव, महिमा और सांस्कृतिक लालित्य का प्रतिनिधित्व करने वाले रंगीन सांस्कृतिक उत्सव भी आयोजित होंगे।

21 गन सेल्यूट इंटरनेशनल विंटेज कार रैली और कॉनकॉर डी’एलीगेंस के 9 वें संस्करण में भारतीय हेरीटेज मोटरिंग बिरादरी में एक नए युग की शुरुआत भी होगी, जिसमें पहले इंक्रेडिबल इंडिया रैली का प्रीमियर होगा, जिसके बाद दो दिनों तक एक्स्ट्रावेगेंजा भी होगा। 17 फरवरी, 2020 से शुरू होने वाली इंक्रेडिबल इंडिया रैली, दुनिया भर के गौरवशाली कार कार्नोइसेर्स द्वारा संचालित 10 रोरिंग विंटेज ब्यूटीज की परेड के साथ, एक ऐसा जश्न होगा, जो कि इससे पहले कम ही देखा गया है। इंक्रेडिबल इंडिया रैली को पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार के सहयोग से शुरू किया गया है, जिसका उद्देश्य पूरे भारत में हेरिटेज मोटरिंग को बढ़ावा देना है और साथ ही भारत को वैश्विक हेरीटेज मोटरिंग के नक्शे के शीर्ष पर लाना है।

21 गन सैल्यूट कॉनकॉर्स डी’एलीगेंस, एशियन मोटरिंग इवेंट्स कैलेंडर पर सबसे भव्य और बेस्ट आयोजनों में से एक है और इंडिया गेट पर शानदार फ्लैग ऑफ ऑटोमोटिव एक्सीलेंस और भारतीय विरासत के उत्सव की बेजोड़ परंपरा को आगे बढ़ा रहा है!

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In कला/साहित्य / संस्कृति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

अंतरराष्ट्रीय यूजीसी कोर्स भारतीय छात्रों के बीच अधिक लोकप्रिय

अंकित कपूर, मैनेजिंग डायरेक्टर, प्रथम इंटरनेशनल एजुकेशन डेस्क शिक्षा हर व्यक्ति के जीवन का…