Home खबरें मुस्लिम समुदाय देश के विकास में बने भागीदार -वनमाली

मुस्लिम समुदाय देश के विकास में बने भागीदार -वनमाली

0 second read
0
0
20
  • वन्दना विश्वकर्मा 

सूरत  : सूरत के समाजसेवी और प्रसिद्ध कपड़ा व्यापारी वनमाली सोनानी ने आज कहा कि ,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुसलमानों के सच्चे रहनुमा हैं लेकिन विपक्षी दलों के नेताओं द्वारा उनकी नीतियों के बारे में भ्रम फैलाकर दिल्ली में दंगा कराने की साजिश की गयी ।

श्री वनमाली ने हमारी विशेष संवाददाता वन्दना विश्वकर्मा से विशेष बातचीत में कहा कि भारतीय जनता पार्टी विरोधी दलों के कुछ नेताओं ने नागरिकता संसोधन कानून के बारे में मुस्लिम समुदाय के बीच दुष्प्रचार किया कि यह कानून उसके विरोध में है और इससे इस समुदाय के लोगों की नागरिकता खत्म हो जाएगी जबकि इस कानून में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के ऊन उत्पीड़ित हिन्दू ,सिख,बौद्ध, जैन ,ईसाई और पारसी समुदाय के लोगों को भारत की नागरिकता देने का प्रावधान है जो यहाँ कई वर्ष से रह रहे हैं।गृहमंत्री अमित शाह स्वयं इस बात को कई बार स्पष्ट कर चुके हैं कि इस कानून से मुसलमानों की नागरिकता पर कोई आँच नहीं आएगी ।

उन्होंने कहा कि काँग्रेस की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी, आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल , और अमानतुल्लाह खान ,मुस्लिम लीग के असुदुद्दीन ओवैसी और वारिस पठान ,जे एन यू से जुड़े कन्हैया कुमार ने बं के विरोध में लगातार भड़काऊ भाषण देकर ऐसा माहौल तैयार कर दिया जिससे असंतोष की चिंगारी आग में भड़क गयी ,हालांकि ओवैसी, अमानतुल्लाह, और वारिस जैसे मुस्लिम नेताओं के बयानों से मुस्लिम समुदाय पर कोई खास असर नहीं पड़ता है लेकिन जब सोनिया गांधी ,केजरीवाल, और कन्हैया कुमार जैसे नेता बं के विरोध को लेकर मुसलमानों के पक्ष में खड़े हो जाते हैं तो मुस्लिम समुदाय उनसे प्रभावित हो जाता है इससे उन्हें लगता है कि जब हिन्दू समाज के लोग हमारे समर्थन में हैं तो इसका साफ मतलब है कि हम सही रास्ते पर है वे यह नहीं समझ पाते कि राजनीति के लिए उनका इस्तेमाल किया जा रहा है श्री सोनानी ने कहा कि , 70 साल में अब भी मुस्लिम समाज मुख्य धारा से नहीं जुड़ पाया है इसकी वजह यह रही है कि कांग्रेस ने मुस्लिम समुदाय का तुष्टिकरण करते हुए उसका रानीतिक इस्तेमाल ही किया ।उनकी सामाजिक और आर्थिक बेहतरी के लिए कोई कार्य नहीं किया ,यह समुदाय उनके लिए एक बड़ा वोट बैंक ही रहा।

जबकि मोदी सरकार ने सत्ता में आने के बाद से तीन तलाक की कुरीति ,उनकी शिक्षा के लिए बेहतर प्रबंध और मुस्लिम समुदाय के उन भटके हुए बेरोजगार युवाओं को समाज के मुख्य धारा में लाने का काम किया ,जो उग्रवाद और आतंकवाद के रास्ते पर चल दिए थे ।

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

असीम शांति एवं सुख का अनुभव कराता है, ‘भ्रामरी प्राणायाम’

योगाचार्य (डॉ.) राजेश कुमार साहा भ्रामरी प्राणायाम : जिस प्रकार भंवरा गुंजन क्रिया करता है…