Home खबरें असीम शांति एवं सुख का अनुभव कराता है, ‘भ्रामरी प्राणायाम’

असीम शांति एवं सुख का अनुभव कराता है, ‘भ्रामरी प्राणायाम’

2 second read
0
1
18

योगाचार्य (डॉ.) राजेश कुमार साहा

भ्रामरी प्राणायाम : जिस प्रकार भंवरा गुंजन क्रिया करता है, उसी प्रकार इस प्राणायाम से गुंजन करते हुए करते हैं। दोनों हाथों के अंगूठे को कान में लगाकर कान बंद करते हैं एवं पहली उंगली (तर्जनी) माथे पर बाकी तीन उंगलियों को आपस में मिलाकर आंखों के पास हल्के दबाव के साथ रखते हैं।

दोनों नासिकाओ से पूरा श्वास भरते हैं एवं मुंह बंद रखते हुए गुंजन क्रिया करते हैं। इससे पूरा मस्तिष्क जागृत और झंकारित हो जाता है। असीम शांति एवं सुख का अनुभव होता है, कम से कम 5 बारे एवं अधिकतम 21 बार कर सकते हैं। सुखद नींद के लिए रात को सोते समय अवश्य करें। इस प्राणायाम से तनाव अनिद्रा दूर होती है।


( Mob.  9213173230 Call & 9958069189 WhatsApp)

  • मृत्यु से बड़ा सत्य नहीं है…

    योगाचार्य (डॉ.) राजेश कुमार साहा एक बहुत ही सिद्ध और सच्चे भक्त थे। सदैव प्रसन्न रहते थे स…
Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

लोगों ने दिखाई क्रूरता गर्भवती भूखी हथिनी को खिलाया पटाखों से भरा अनानास

हथिनी और उसके बच्चे की हुई तड़प-तड़पकर हुई मौत तिरुवनंतपुरम : केरल के मलप्पुरम जिले में कुछ …