Home खबरें च्वाइस होटल्स इंडिया ने कमिटमेंट टू क्लीन पहल की शुरुआत की

च्वाइस होटल्स इंडिया ने कमिटमेंट टू क्लीन पहल की शुरुआत की

4 second read
0
1
25

कोविड-19 महामारी के बीच अतिथियों, फ्रैंचाइजी और उनके कर्मचारियों के स्वास्थ्य तथा सुरक्षा में सहायता के लिए, सफाई, डिसइंफेक्टिंग, हाईजीन और सोशल डिसटेंसिंग के सर्वश्रेष्ठ व्यवहार गाइडेंस को बेहतर किया गया।

च्वाइस होटल्स इंडिया ने आज पूरे रीजन में कमिटमेंट टू क्लीन की शुरुआत करने की घोषणा की। इस पहल के तहत च्वाइस होटल की कोशिश है कि फ्रैंचाइजी और उनके कर्मचारियों को समग्र रूप से वह सब कुछ मुहैया कराया जाए जिसकी आवश्यकता उन्हें है। इससे च्वाइस ब्रांड नाम वाले होटल को सफाई का उत्कृष्ट स्तर हासिल करने में सहायता मिलेगी। साथ ही कोविड-19 महामारी से संबद्ध स्वास्थ्य और सुरक्षा की आवश्यकताओं की पूर्ति करना भी संभव होगा।

कमिटमेंट टू क्लीन विश्व स्वास्थ्य संगठन और अन्य अग्रणी स्रोतों के दिशा-निर्देशों को आगे बढ़ाता है।

कमिटमेंट टू क्लीनपहल च्वाइस होटल्स के लंबे समय से चले आ रहे सफाई प्रोटोकोल पर आधारित है और यह मौजूदा प्रोग्राम को बेहतर बनाता है। महामारी के अनुसार विकसित गाइडेंस के साथ तैयार किए गए इस प्रोग्राम में डीप क्लीनिंग, डिसइंफेक्टिंग, हाईजीन और सोशल डिसटेंसिंग से संबंधित सिफारिशें और सार्वश्रेष्ठ व्यवहार तथा प्रोटोकोल तो है ही।

संक्रमण को रोकने के प्रति च्वाइस होटल्स के रुख में नया ऑनलाइन रीसोर्स हब शामिल है। यह फ्रैचाइजी के लिए उपलब्ध है और इसमें परिचालन से संबंधित सर्वश्रेष्ठ व्यवहार, प्रशिक्षण और संसाधन शामिल हैं जो इकोलैब के उद्योग में अग्रणी विशेषज्ञों ने मुहैया कराए हैं। इसके अलावा, च्वाइस ब्रांड नाम वाले हरेक होटल में एकव्यक्ति का पदनाम, “कमिटमेंट टू क्लीन कैप्टन” होगा। ये सब के सब लागू होने वाले अपनी श्रेणी का सर्वश्रेष्ठ सफाई प्रशिक्षण हासिल करेंगे और उसे पूरा करेंगे। होटल और होटल के परिचालन में नए प्रोटोकोल शामिल करने की जिम्मेदारी उन्हीं की होगी।

अगले कुछ हफ्तों के दौरान मेहमान नए और बेहतर होते प्रोटोकोल, उत्पाद और संचार महसूस कर सकते हैं। स्वास्थ्य और सुरक्षा को बढ़ा देने के लिए इनमें से कुछ पहले ही जगह पर हैं। इनमें निम्नलिखित शामिल हैं रू

प्रोटोकोल

● ज्यादा आवाजाही वाली जगहों जैसे फ्रंट डेस्क, फिटनेस सेंटर और पूल के साथ-साथ पूरे होटल में ज्यादा छुई जाने वाली जगहों की ज्यादा सफाई की व्यवस्था होगी।
● फर्नीचर ऐसे रखे जाएंगे कि उपयुक्त सोशेल डिसटेंसिंग को बढ़ावा दिया जा सके।

● हाउसकीपिंग के साथ “ऑन डिमांड” का विकल्प रहेगा। इसके तहत आप अतिरिक्त टॉयलेटरीज, तौलिए, लिनेन या कॉफी की जब चाहे मांग कर सकते हैं। इसके लिए हाउसकीपर कमरे में प्रवेश नहीं करेगा।

उत्पाद

● डिजाइन में ऐसे सुधार जिससे कांटैक्टलेस चेक-इन और चेक-आउट संभव हो जैसे फ्रंट डेस्क पर प्लेक्सीग्लास पार्टिशन और रवानगी के समय चाभी छोड़नेकी व्यवस्था।
● अतिथियों के कमरों में ज्यादा छुई जाने वाली कुछ चीजों पर “क्लीन सील” रहेंगे ताकि स्टर्लाइज्ड स्थिति का आश्वासन रहे।
● होटल स्टाफ को पर्सनल प्रोटेक्टिव उपकरण (पीपीई) के लिए भत्ता।इसमें मास्क, दस्ताने शामिल हैं ताकि अतिथियों औरकर्मचारियों को सुरक्षित रखा जा सके।.
● पूरे होटल में जहां आवाजाही ज्यादा होती है वहां हैंड सैनिटाइजिंग स्टेशन रखा हुआ है जैसे फ्रंट डेस्क और फिटनेस सेंटर।

संचार

● साइनेज रहेंगे और सोशल डिसटेंसिंग, पर्सनल सैनिटेशन से संबंधित दिशा निर्देश तथा सर्फेस क्लीनिंग के महत्व के बारे में बतायाजाएगा।
● फ्रंट डेस्क के कर्मचारी अतिथियों को उन सतर्कताओं के बारे में बताएंगे जो उनकी सुरक्षा और सुविधा के लिए बरती जाती है। यही नहीं, अतिथि के चाहने पर उपलब्ध अतिरिक्त सुरक्षा उपायों के बारे में भी बताया जाएगा।

आने वाले महीनों में कंपनी भिन्न टेक्नालॉजी को लागू करने की संभावना भी तलाशेगी। इनमें मोबाइल चेक इन और बिना चाबी के प्रवेश शामिल है ताकि मेहमाने के लिए बिना कुछ छुए कमरे में पहुंचना संभव हो और उसे खास अनुभव हो। इसके अलावा, अल्ट्रा वायलेट लाइट इंस्ट्रूमेंट्स, एयर प्यूरीफायर और ओजोन जेनरेटर भी पेश किए जाएंगे ताकि सैनिटेशन को और बेहतर बनाया जा सके।

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

श्रद्धांजलि : मुशायरा लूट लेते थे राहत इंदौरी : गुलजार

नई दिल्ली : ‘‘उर्दू शायरी में बुलंदियों को छूने वाले राहत इंदौरी का चला जाना बहुत बड़ा ही न…