Home खबरें जन्माष्टमी खास : आज भी, कल भी श्रीकृष्ण रहेंगें हमारे साथ

जन्माष्टमी खास : आज भी, कल भी श्रीकृष्ण रहेंगें हमारे साथ

0 second read
0
3
21
  • 11 अगस्त को भगवान कृष्ण का जन्मोत्सव है। लेकिन कोरोना संकट की इस घड़ी में कैसे मने जन्माष्टमी? दर्शकों के बीच प्रसिद्ध होने वाले टीवी शो ‘महाभारत’ में श्रीकृष्ण का अभिनय करने वाले अभिनेता नितीश भारद्वक्षज इसी संदर्भ में बता रहें हैं…अपनी मन की बात।

यह सोचने वाली बात है कि आखिर क्यों हमारों साल बाद भी भगवद्गीता में कही गई सारी बातें हमारे बीच मान्य हैं। भारत ही नहीं, विदेशों में भी श्रीकृष्ण को लोग मानते हैं। आज इस महामारी के दौर में, श्रीकृष्ण से मार्गदर्शन हमारे लिए और भी जरूरी हो गया है। कोरोना संकट की वजह से सब परेशान वह दुखी हैं। हर तरफ नकारात्मकता छाई हुई है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि अच्छे दिन के इतंजार में हम कर्म करना ही छोड़ दें। हमें कर्म को जारी रखते हुए किसी भी आपदा को अवसर में बदलना सीखना होगा। कृष्ण भी तो हमें बिना कर्तव्य पथ से विचलित हुए हर बाधाओं से लड़ते रहने का संदेश देे हैं। और जो बाधाओं से लड़ता है, वहीं अपना अच्छाइयों को बाहर निकाल पाता है। है। सच कहूं तो जीवन की बाधाओं पर विजय पाने जैसी कोई खुशी नहीं है। हर धर्म के प्रति आस्था रखते हुए अन्याय के खिलाफ लड़ाई लड़ना श्रीकृष्ण की वो सीख है, जिससे हम अपनी जिंदगी के मायने बदल सकते हैं।

गलतियों को सुधारने का वक्त : अगर महसूस करें तो लाॅकडान हम सबके लिए एक बेहतरकल के लिए आत्मनिरीक्षण का समय था। इस दौरान हम सब परिवार को बेहतर समय दे पाए। बच्चों के साथ अच्छा वक्त बिताने का मौका मिला। कुछ लोगों ने इस दौरान अपने हुनर को भी निखारा। यह हमारे लिए सोचने का भी समय है कि हम जीवन में कहां गलतियां कर रहे थे और कैसे हम इसमें बदलाव ला सकते हैं।

बाधाओं से लड़कर ही आगे बढ़ेंगें : मेरी जिंदगी भी इतनी आसान नहीं रही है। मैंने भी काफी संघर्ष किए हैं, और आज भी तमाम तरह की कठिनाइयां हैं, जिनसे मैं श्रीकृष्ण के मार्गदर्शन में लड़ रहा हूं। मैं भी अनासक्ति से अपना ‘धर्मयुद्ध’ लड़ रहा हूं। जीवन में सब कुछ क्षणिक है, चाहे सुख हो या दुख। इसलिए हमें सभी चुनौतियों का साहस के साथ सामना करना चाहिए। आप जिस भी भगवान पर विशवास करते हैं, उन पर पूर्ण विश्वास रखते हुए कर्म करते रहिए, आपकी बाधाएं दूर होंगीं। गीता के माध्यम से श्रीकृष्ण ने यही समझाने की कोशिश की है।   साभार : एचटी

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

अंतरराष्ट्रीय यूजीसी कोर्स भारतीय छात्रों के बीच अधिक लोकप्रिय

अंकित कपूर, मैनेजिंग डायरेक्टर, प्रथम इंटरनेशनल एजुकेशन डेस्क शिक्षा हर व्यक्ति के जीवन का…