Home दिल्ली ख़ास कला/साहित्य / संस्कृति श्रद्धांजलि : मुशायरा लूट लेते थे राहत इंदौरी : गुलजार

श्रद्धांजलि : मुशायरा लूट लेते थे राहत इंदौरी : गुलजार

0 second read
0
2
155

नई दिल्ली : ‘‘उर्दू शायरी में बुलंदियों को छूने वाले राहत इंदौरी का चला जाना बहुत बड़ा ही नहीं बल्कि पूरे का पूरा नुकसान है क्योंकि जनाब मुशायरे की जान थे और मुशायरा ही लूट लेते थे।’’ लोगों के ख्यालों और जज्बातों को शब्दों में बांध कर शायरी के जरिये पेश करने वाले, उर्दू शायरी के अजीमोशान फनकार राहत इंदौरी के निधन पर उन्हें याद करते हुए यह पंक्तियां प्रख्यात गीतकार और रचनाकार गुलजार ने कहीं।

राहत इंदौरी का आज मंगलवार को कोविड-19 महामारी के कारण निधन हो गया। इंदौरी के इस दुनिया से चले जाने की खबर पर गुलजार ने कहा ‘‘यह केवल बड़ा नुकसान नहीं है बल्कि उससे कहीं ज्यादा है। मुझे नहीं पता कि कितना बड़ा….।’’

गुलजार ने कहा ‘‘कोई अभी अभी वह जगह खाली कर गया जो केवल मुशायरे की थी। उर्दू शायरी आज के मुशायरे में राहत इंदौरी के बगैर पूरी नहीं है। एक वही थे जो इतनी बेहतरीन शायरी कहते थे।’’ उन्होंने कहा ‘‘अक्सर मुशायरों में आपको बहुत कुछ सहना पड़ता है लेकिन राहत को सुनने के लिए इंतजार करना पड़ता था। वह लाजवाब थे। ऐसा नहीं है कि मुशायरों में रोमांटिक शेर मिलते हों, वह जो कहते थे वह सामाजिक, राजनीतिक हालात पर, भावनाओं पर होता था, समय के अनुसार होता था … जनता से जुड़ा हुआ।’’

गुलजार ने कहा ‘‘समय और पीढ़ियों के साथ उनका जुड़ाव कमाल का था। वह बेहद प्रासंगिक थे।’’ उन्होंने कहा ‘‘वह जगह को खाली करके चले गए। यह बहुत बड़ा ही नहीं, बल्कि पूरी तरह नुकसान है। वह एक खुश मिजाज, खुश दिल आदमी थे।’’ राहत इंदौरी से जुड़ी यादें टटोलते हुए गुलजार ने कहा ‘‘जब भी कोई अच्छा शेर सुन लिया, फोन कर लिया…दाद देना। यह याद करना मुश्किल है कि मैंने आखिरी बार उनसे कब बात की थी, ऐसा लगता है कि उस दिन ही तो बात की थी उनसे।’’ उन्होंने कहा ‘‘इंदौरी साहब मुशायरे की जान थे, वह मुशायरे की आत्मा थे। मैं तो कहूंगा कि वह मुशायरा ही लूट लेते थे। ’’

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In कला/साहित्य / संस्कृति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

नवरात्रि पर विशेष : षष्ठम् कात्यायनी

चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्टूलवरवाहना। कात्यायनी शुभं दद्यादेवी दानवघातिनी।। मां दुर्गा के छठ…