Home खबरें नवरात्रों पर विशेष : प्रथम स्वरूप शैलपुत्री

नवरात्रों पर विशेष : प्रथम स्वरूप शैलपुत्री

0 second read
0
0
16

वंदे वांदितलाभाय, चंद्रार्धकृतशेखराम।
वृषारूढ़ां शूलधरां शैलपुत्री, यशस्विनीम्।।

नवरात्र के पहले दिन मां दुर्गा के शैलपुत्री स्वरूप की पूजा की जाती है। पर्वतराज हिमालय के यहां पत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका नाम शैलपुत्री पड़ा। पूर्व जन्म में ये प्रजापति दक्ष की कन्या थीं, तब इनका नाम सती था। इनका विवाह भगवान शंकरजी से हुआ था। प्रजापति दक्ष के यज्ञ में सती ने अपने शरीर को भस्म कर अगले जन्म में शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लिया। पार्वती और हैमवती भी उन्हीं के नाम हैं। उपनिषद् की एक कथा के अनुसार, इन्हीं ने हैमवती स्वरूप से देवताओं का गर्व-भंजन किया था। नव दुर्गाओं में प्रथम शैलपुत्री का महत्व और शक्तियां अनंत हैं। नवरात्र पूजन में प्रथम दिन इन्हीं की पूजा और उपासना की जाती है। इस दिन उपासना में योगी अपने मन को मूलाधार चक्र में स्थित कर साधना करते हैं।

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

नवरात्रि पर विशेष : षष्ठम् कात्यायनी

चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्टूलवरवाहना। कात्यायनी शुभं दद्यादेवी दानवघातिनी।। मां दुर्गा के छठ…