Home खबरें करवा चौथ पर विशेष चंद्रमा की पूजा से आयु और सौभाग्य की कामना…

करवा चौथ पर विशेष चंद्रमा की पूजा से आयु और सौभाग्य की कामना…

4 second read
0
0
33
  • पं. भानुप्रतापनारायण मिश्र

कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी यानी करवा चौथ का व्रत। सूर्योदय से चंद्रोदय तक रखे जाने वाले इस व्रत को महिलाएं पति की दीर्घायु के लिए रखती हैं।

करवा चौथ व्रत में चंद्रमा की पूजा की जाती है। मान्यता है कि इस व्रत में चंद्रमा की पूजा करने से वैवाहिक जीवन सुखमय होता है और पति की आयु लंबी होती है। इसलिए विवाहित महिलाएं पति की लंबी आयु के लिए इस व्रत को रखती हैं। इस दिन चंद्रमा के साथ-साथ शिव-पार्वती के साथ-साथ गणेशजी व मंगल ग्रह के सवामी देव सेनापति कार्तिकेय की भी विशेष पूजा होती है। इस व्रत की कुछ परंपरा है, जिनमें सारगी भी एक है। सरगी भोजन की एक थाली है। इस दिन घर परंपरा है कि घर को कोई बड़ा सूर्याेदय से पूर्व व्रत करने वाली विवाहिता को सरगी के माध्यम से दूध, सेवई आदि खिलाता है। घर की वरिष्ठ महिलाएं व्रती को शंृगार की वस्तुएं, वस्त्र आभूषण आदि देती है। व्रत वाले दिन व्रत का समय भजन-पूजन करते हुए व्यतीत करें। पकवान से भरे दस करवे (मिट्टी के बने बर्तन) गणेशजी के सम्मुख रखते हुए मन ही मन प्रार्थना करें-करुणासिन्धु कपर्दिगणेश! आप मुझ पर प्रसन्न हों। करवे में रखे लड्डू पति के माता-पिता को वस्त्र, धनादि के साथ जरूर देना चाहिए। करवे पूजा के बाद विवाहित महिलाओं में बांटें। निराहार रहकर दिन भर गणेश मंत्र का जाप करें।

रात्रि में चंद्रमा के दिखने पर ही अध्र्य दें। गणेश और चतुर्थी माता को भी अध्र्य देना चाहिए। इस दिन व्रती केवल मीठा भोजन ही करें। करवा चैथ व्रत को कम से कम 12 या 16 साल तक करना चाहिए। साभार : एचटी

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

वरिष्ट पत्रकार विनोद तकिया वाला को स्टार पर्सनेलिटीज ऑफ इंडिया अवार्डस 2020 से सम्मानित हुए

नई दिल्ली : वरिष्ट पत्रकार विनोद तकिया वाला कोआलंबन चेरीटेबल ट्रस्ट की तरफ से राजधानी दिल्…