मां दुर्गा का आठवां रूप है ‘महागौरी’

News Detail 18 Oct 2018 Dharam / Aastha

’मां दुर्गा का आठवां रूप श्री महागौरी हैं। इनका वर्ण पूर्णतः गौर है, इसलिए ये महागौरी कहलाती हैं। नवरात्रि के आठवें दिन इनका पूजन किया जाता है। माना जाता है कि इनकी उपासना से असंभव कार्य भी संभव हो जाते हैं।’

’शास्त्रो के अनुसार मां महागौरी की आराधना से किसी भी प्रकार के रूप और मनोवांछित फल प्राप्त किया जा सकता है। उजले वस्त्र धारण किये हुए को आनंद देने वाली शुद्धता की मूर्ति देवी महागौरी मंगलदायिनी हैं।’

’महागौरी की चार भुजाएं हैं, उनकी दायीं भुजा अभय मुद्रा में हैं और नीचे वाली भुजा में त्रिशूल सुशोभित है। बायीं भुजा में डम-डम करता डमरू है और नीचे वाली भुजा से देवी गौरी भक्तों की प्रार्थना सुनकर वरदान देती हैं।’

   0