हृदय रोगों से बचने के लिए स्वस्थ खान-पान है सबसे आसान और प्रभावी तरीका

News Detail Health News

  • दिल की बीमारी की जड़ें अस्वस्थ खाने की आदतें, व्यस्त जीवनशैली, ज्यादा तनाव, लंबे समय तक काम करने और शारीरिक कार्य की कमी में हैं : डॉ. अनिल भट्ट।

नई दिल्ली :
‘विश्व हृदय दिवस’ का विषय है “माई हार्ट, योर हार्ट“, यह लोगों को नियमित व्यायाम और सही खाने के माध्यम से अपने दिल को स्वस्थ रखने का एक सरल वादा करने का आग्रह करता है। क्लिनिकल पोषण और आहार विज्ञान विभाग के सहयोग से मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, पटपड़गंज के वरिष्ठ चिकित्सकों ने लोगों से हेल्थी फ़ूड न खाने की वजह से बढ़ रही हृदय रोगों की समस्याओं के बारे मे जागरूकता फैलाने के लिए एक कार्यशाला का आयोजन किया। इसके साथ ही कार्डियक रोगियों के लिए उचित खाना डॉक्टरों द्वारा बनाया गया और उसके साथ रेसिपी भी शेयर की गयी। इस अवसर पर, डॉक्टरों ने हृदय रोगियों के साथ एक इंटरैक्टिव सत्र भी किया, जिसमें उन्होंने हृदय रोग, निवारक उपायों, देखभाल और क्या करें क्या न करें ऐसे कुछ महत्वपूर्ण लक्षणों पर प्रकाश डाला।

कार्यशाला को संबोधित करते हुए, डॉ. अनिल भट्ट (एसोसिएट डायरेक्टर एवं क्लीनिकल एडमिनिस्ट्रेटर-कार्डियोलॉजी, मैक्स सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, पटपड़गंज) ने कहा, “दिल की बीमारी की जड़ें अस्वस्थ खाने की आदतें, व्यस्त जीवनशैली, ज्यादा तनाव, लंबे समय तक काम करने और शारीरिक कार्य की कमी में हैं। पिछले कुछ वर्षों में, हम युवा आबादी के बीच कार्डियोवैस्कुलर मुद्दों की एक खतरनाक प्रवृत्ति देखते रहे हैं। लोग लम्बे समय तक काम में व्यस्त रहते हैं और समय न मिलने के कारण दिन भर जंक फ़ूड खाते है। ख़राब खाने की आदतें और कम फिजिकल एक्सरसाइज व्यक्ति को मोटापे से ग्रस्त कर सकती हैं, जिससे दिल की समस्याएं होती हैं।“

डायटीशियन चारू दुआ (विभाग की प्रमुख, मैक्स सुपर स्पेशलिटी अस्पताल, पटपड़गंज) समझाया कि पेट की चर्बी (मोटापा) सबसे ज्यादा जोखिम पैदा करता है। अपने वजन पर कंट्रोल करना और स्वस्थ खाना सबसे महत्वपूर्ण है। अनाज जैसे खाद्य पदार्थों की कम खपत करने से हृदय रोगों को कम करने में मदद मिलती है, क्योंकि वे फाइबर और जटिल कार्बोहाइड्रेट में समृद्ध होते हैं, और पचाने में अधिक समय लेते हैं। नतीजतन, ऐसे खाद्य पदार्थ खाने के बाद लोग लंबे समय तक तृप्त महसूस करते हैं। लोगां को आहार में बहुत से फल और सब्जियां खानी चाहिए, जिससे शरीर को आवश्यक पोषक तत्व भी मिलता रहें। इस कार्यशाला के माध्यम से हम सही भोजन खाने के बारे में जागरूकता पैदा करना चाहते हैं, जो दिल को स्वस्थ रखने में मदद करेगा। हमें यकीन है कि डॉक्टरों द्वारा साझा स्वस्थ भोजन व्यंजनों और दिशा-निर्देश लोगों के लिए फायदेमंद होंगे।“

 45